Chandrayaan 3 Vikram Lander and Pragyan Rover विक्रम लैंडर रोवर प्रज्ञान चंद्रमा पर क्या करेंगें

Chandrayaan 3 Vikram Lander and Pragyan Rover विक्रम लैंडर रोवर प्रज्ञान चंद्रमा पर क्या करेंगें चंद्रयान-3 की चांद के दक्षिणी ध्रुव पर सॉफ्ट लैंडिंग हो गई है । विक्रम लैंडर ने सुरक्षित लैंडिंग सुनिश्चित करने के अपना काम पूरा कर लिया है । वही Pragyan Rover भी लैंडर से बाहर आ गया है । इसरो के मुताबिक विक्रम और प्रज्ञान में पांच वैज्ञानिक पेलोड लगे हैं । अब Rover Pragyan का काम शुरू होता है । रोवर प्रज्ञान का वजन 26 किलोग्राम है । यह एक रोबोट वाहन है, जो 6 पहियों पर चंद्रमा की सतह पर खोज करेगा । यह एक सेंटीमीटर प्रति सेकंड की गति से चंद्रमा की सतह पर यात्रा करेगा ।

Chandrayaan 3 Vikram Lander and Pragyan Rover

Chandrayaan 3 Pragyan Rover

रोवर प्रज्ञान अगले 14 दिनों तक एक चंद्रमा की सतह का अध्ययन कर पांचो पेलोड अंतरिक्ष एजेंसी को महत्वपूर्ण डाटा उपलब्ध कराएगें । इसरो के मुताबिक रोवर प्रज्ञान का वजन 26 किलोग्राम है । यह एक रोबोट वाहन है । जो चंद्रमा की सतह पर खोज करेगा । यह एक सेंटीमीटर प्रति सेकंड की गति से चंद्रमा की सतह पर यात्रा करेगा । इसके पहियों में अशोक स्तंभ की छाप है, जैसे-जैसे रोवर प्रज्ञान चांद की सतह पर चलेगा वैसे-वैसे अशोक स्तंभ की छाप छपती चली जाएगी ।

रोवर प्रज्ञान रोबोट में भी दो पेलोड लगे हैं । इनमें अल्फा पार्टिकल एक्सरे स्पेक्टरोमीटर और लेजर इंडयूस्ड ब्रेकडून स्पेकटोस्कोप शामिल है ।

अल्फा पार्टिकल एक्सरे स्पेक्टरोमीटर – यह चांद की सतह के पास मिट्टी और चट्टानों की संरचना (एलुमिनियम, सिलिकॉन, मैग्नीशियम, पोटेशियम, आयरन) के बारे में जानकारी जुटाएगा ।

लेजर इंडयूस्ड ब्रेकडून स्पेकटोस्कोप शामिल – यह चाँद पर तत्वों का विश्लेषण करेगा । साथ ही यह रासायनिक और खनिज संरचना को प्राप्त करने के अलावा उनकी पहचान करेगा ।

Chandrayaan 3 विक्रम लैंडर

विक्रम लैंडर में जो तीन पेलोड लगे हैं । उनमें रेडियो एनटोमी ऑफ मून बाउंड हैपरसेंसीटिव आयनोस्फियर एंड एतमोस्फियर (रंभा), चंद्रा सरफेस थरमोफीजीकल एक्सपेरिमेंट (चेस्ट) और इंटरमेंट फॉर लूनर सेसमिक एक्टिविटी (आईएलएसए) शामिल है । तीनों को अलग-अलग बांटे गए हैं ।

रेडियो एनटोमी ऑफ मून बाउंड हैपरसेंसीटिव आयनोस्फियर एंड एतमोस्फियर (रंभा) – यह लैंगमुइर प्रोब पेलोड है । जो सतह पर मौजूद प्लाज्मा के घनेपन और उसमें बदलाव का पता लगाएगा । सूर्य की किरणों के कारण चांद की मिट्टी जल गई है, इसलिए प्लाज्मा का अध्ययन होगा ।

चंद्रा सरफेस थरमोफीजीकल एक्सपेरिमेंट (चेस्ट) – यह चांद की सतह पर तापमान को मापने का कार्य करेगा ।

इंटरमेंट फॉर लूनर सेसमिक एक्टिविटी (आईएलएसए) – यह लैंडर साइट के आसपास भूकंप की गतिविधि को मापने और चांद की खनिज संरचना को समझने के लिए सतह का चित्रण करेगा ।

Important Links

ISRO Official WebsiteClick Here
Home PageClick Here
Rajasthan ke RopWayClick Here

Leave a Reply

RBSE 8th Class Time Table 2024 राजस्थान बोर्ड कक्षा 8वीं परीक्षा समय सारणी CTET Admit Card 2024 सीटेट एडमिट कार्ड यहां से डाउनलोड करें Makar Sankranti Date 2024 मकर संक्रांति 2024 दिनांक CBSE Date Sheet 2024 सीबीएसई बोर्ड परीक्षाओ का टाइम टेबल जारी Rajasthan GNM Admission 2023 जीएनएम नर्सिंग एडमिशन फॉर्म